Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Stock Market

Stock Market Knowledge In Hindi | स्टॉक और शेयर मार्केट में क्या अंतर है?

ज्यादातर लोग यह नहीं समझ पाते हैं कि Stock Market और Share Market मैं क्या अंतर होता है। आइए जानते हैं स्टॉक मार्केट शेयर मार्केट से कैसे अलग है। भले ही आप इन शब्दों को एक साथ प्रयोग कर सकते हैं लेकिन इसका कंबीनेशन किया जाए तो यह अलग अलग है आइए हम समझते हैं शेयर मार्केट क्या है और स्टॉक मार्केट क्या है।

स्टॉक मार्केट (Stock Market) उसे कहते हैं जहां पर कई सारी कंपनीयों के शेयरों का स्टॉक होता है Stock Market कहते हैं। और शेयर मार्केट उसे कहते हैं जहां पर कंपनीयाँ अपना शेयर जारी करती हो उसे शेयर मार्केट कैसे हैं। कंपनी के लाखों-करोड़ों शेयरों को स्टॉक के रूप में देखा जाता है। भारत में मुख्य रूप से दो स्टॉक एक्सचेंज हैं जिनका नाम

शेयर बाजार एक ऐसा मार्केट है। जहां पर BSE या NSE भारतीय स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड कंपनियों के शेयर ( खरीदे और बेचें ) जाते हैं। शेयर मार्केटिंग के द्वारा एक आम निवेशक किसी भी कंपनी का शेयर खरीद सकता है। और बेच भी सकता है।

स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है? Stock Market Knowledge.

एक बार प्राइमरी शेयर (IPO) मैं नये शेयर बेचे जाने के बाद, कोई भी व्यक्ति अपना शेयर किसी भी वक्त बेच सकता है। लेकिन शेयर बेचने के बाद तुरंत पैसा अपने अकाउंट में नहीं आता है। कुछ पेमेंट उसी टाइम रिलीज कर दिया जाता है और कुछ पेमेंट अगले दिन रिलीज किया जाता है। यह ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अगर मान के चलिए सभी शेयर एक साथ बेच दिए जाएं तो उसको कौन खरीदेगा। अगर उन्हीं शेयरों को थोड़ा-थोड़ा बेचा जाएगा तो कुछ खरीदने वाले भी थोड़े थोड़े खरीदेंगे कुछ इस प्रकार शेयर मार्केट काम करता है।

यह भी पढ़ें –

इस प्रकार ( Stock Market) इधर से उधर होते रहते हैं। स्टॉप दो प्रकार के होते हैं जिनका नाम नेशनल स्टॉक एक्सचेंज दूसरा मुंबई स्टॉक एक्सचेंज तो आप समझ ही गए होंगे इस प्रकार के होते हैं।

स्टॉक मार्केट ट्रेंडिंग कैसे करता है?

जब कई सारे शेयरों को एक साथ रखा जाता है तो उनकी कीमतों में इजाफा होता है तो कुछ इस प्रकार शेयर मार्केट ट्रेंडिंग करते हैं। स्टॉक मार्केट Treding कितने प्रकार के होते हैं।

स्टॉक मार्केट ट्रेंडिंग आम तौर पर तीन प्रकार के होते हैं।

Intra-day Treding

इंट्राडे ट्रेंडिंग कुछ इस प्रकार के होते हैं की शेयर उसी दिन खरीदा जाता है और आपको उसी दिन बेचना होता है चाहे आप को घाटा हो और चाहे आपको मुनाफा हो। अगर आप सोच रहे होंगे कि हम उसको बेचेंगे ही नहीं फिर भी हम आपको बता दें कि वह शेयर मार्केट बंद होगा उसी टाइम का रेट दिया जाएगा चाहे आप को घाटा या मुनाफा हो। इंट्रा डे ट्रेडिंग कुछ इस प्रकार काम करता हैं।

मुझे लगता है कि आप अच्छे से समझ ही गए होंगे।

Scalper Treding

स्केलपर ट्रेडिंग यह एक प्रकार का ट्रेडिंग है लेकिन इसको हर कोई नहीं जानता। इसमें कुछ ही मिनटों में शेयरों को खरीदा जाता है और बेच भी दिया जाता है। यह शेयर मुश्किल से 10 से 15 मिनट तक ट्रेडिंग की जाती है उसके बाद इनको बेच दिया जाता है।

यह ट्रेडिंग को बड़े-बड़े दिग्गज लोग करते हैं। बड़े-बड़े लोगों को इसी प्रकार का शेयर खरीदना या बेचना पसंद करते हैं। और उन्हें चंद मिनटों में काफी मुनाफा होता है और उनको चंद मिनटों में घाटा भी हो जाता है।

Swing Treding

इस प्रकार की ट्रेडिंग में उन निवेशकों के लिए आच्छा माना जाता है । जो लम्बे समय तक ट्रेडिंग करना चाहते हैं । कम कीमत पर शेयर खरीद लिए जाते हैं और जब आपको मुनाफा लगता है तब उसको बेच दिए जा सकते हैं।

मैं आशा करता हूं आपको यह तीनों प्रकार की ट्रेडिंग समझ में आ ही गई होंगी।

यह भी पढें –

स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करने का सही समय कौन सा होता हैं?

हमारे कुछ यूजर पूछते हैं कि सर स्टॉक मार्केट में ट्रेनिंग करने का सही समय कौन सा होता है। तो आज मैं उनको बता ही देता हूं। स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करने का सही समय उसे माना जाता है जब शेयर घाटे में चल रहे हो तो उस समय खरीद लें और जब शेयर की कीमत बढ़ जाए उस समय शेयर को बेच दें। यही स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करने का सही समय होता है।

तो दोस्तों मैं आशा करता हूं कि आपको Stock Market Knowledge अच्छे से जान पाए होंगे। तो दोस्तों आप मुझे नहीं जानते हैं तो मैं आपका Rinku Rathor हूँ । मैं आपके लिए कुछ इस प्रकार की नॉलेज देता रहता हूं। यह Knowledge आपको पसंद आई हो तो शेयर जरूर करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: